ई-कॉमर्स उपभोक्ता की सुध 

ई-कॉमर्स उपभोक्ता की सुध 

172
0
SHARE

नई दिल्ली : कुछ समय से आँनलाईन कारोबार या इंटरनेट के जरिए वास्तुओं की खरीद बिक्री का बाज़ार तेजी से बढ़ा है. इसके सबसे बड़ा कारण यह है कि ई-कामर्स कंपनियां अपने विज्ञापनों में भाड़ी रियायते घोषित कर लोगो को आकर्षित करती है. लेकिन वैसी छुट के हिसाब और हकीकत के बारे में समझना मुश्किल नहीं है कि किसी वस्तु की कीमत में पचास फीसद की बढ़ोतरी कर दी जाए और उस पर पच्चीस फीसद की रियायत दे दी जाए. यानि एक तरह से वह वस्तु रियायती दर पर बेचे जाने के बावजूद अपनी वास्तविक कीमत से ज्यदा दर पर बेचीं गई. इसके आलावा किसी उत्पाद की उपयोगिता और अवधि और बाकी ब्योरो के बारे में उपभोक्ता को तभी पता चलता था, जब खरीदी गई वस्तु उसके पास पहुंच जाती थी. यह एक तरह से ग्राहकों के साथ किया गया धोखा था, जिस पर निगरानी के लिए कोई ठोस व्यवस्था अमल में नहीं थी. हालांकि बीते साल जून में उपभोक्ता मामलो के मंत्रालयों ने विधि मापिकी (डिब्बाबंद समाग्री) नियम 2011 में संशोधन के बाद ई–कामर्स कंपनियों को उसका पालन करने के लिए छह महीने का समय दिया था. लेकिन इस नियम की घोषणा के सात महीने के बाद भी ई-कॉमर्स कंपनियो ने उस पर पूरी तरह अमल करना अनिवार्य नहीं समझा. लेकिन एक जनवरी से लागू नियम के तहत अब ऑनलाइन कारोबार करनेवाली कंपनियो को किसी भी उत्पाद के अधिकतम खुदरा मूल्य के साथ उसके विनिर्माण, अनुपयोगी हो जाने की तारीख शुद्ध मात्रा, देश और ग्राहक सेवा का पूरा ब्योरा मुहैया कराना होगा. यह विचित्र है की किसी भी डिब्बाबंद सामान की अधिकतम खुदरा कीमत में अलग अलग जगहों या ई कामर्स बेबसाईटो पर फर्क हो. इंटरनेट की पहुंच और उपयोग का दायरा बढ़ने के साथ बड़ी तादाद में लोग ईकॉमर्स वेबसाइटो के जरिए खरीदारी करने लगे है. घर बैठे सामान मिल जाने की सुलभ व्यवस्था के प्रति लोगो का आकर्षण स्वभाविक है. लेकिन उस पर उपलब्ध सामान की गुणवत्ता से लेकर कीमत तक के बारे में अभी उतनी जागरूकता नहीं आई है. करीब साल भर पहले लोकल सर्किल नामक संस्था के एक सर्वेच्छन में यह तर्क सामने आया था कि किसी वस्तु के अधिकतम खुदरा मूल्य को बढ़ाकर भारी छुट देने की बात की जाती है. इस आकर्षण के प्रभाव में आकर सामान खरीदने वाले पैतीस फीसद लोगो को यह समझ में भी नहीं आया कि उनके साथ कोई धोखा किया गया है. जबकि ऑनलाइन खरीदारी करनेवाले 25 फीसद लोग अपने साथ होनेवाले गड़बड़ी से अनजान ही रहे. ऐसे तमाम उद्हारण सामने आए जिनमे किसी उपभोक्ता को खरीदारी के बाद जो सामान मिला, वह बेबसाईट पर मौजूद ब्योरे के मुताबिक नहीं था. कई बार कोई ऐसी वस्तु भी भेज दी गई, जिसकी उपयोगिता की तारीख समाप्त हो गयी थी या बहुत नजदीक थी.

LEAVE A REPLY