फलो सब्जियों में बचाव जरुरी है 

फलो सब्जियों में बचाव जरुरी है 

210
0
SHARE

आजकल जो हम कुछ बाज़ार से खा रहे है फल हरि-हरि सब्जियाँ उनपर अध्ययन किया गया है. विषाक्त फल और सब्जियों से तात्पर्य उन सब्जियों से है जिन्हें लोग कम समय में अधिक मुनाफा पाने के लिए उगाते है. ऐसे फलो और सब्जियो के शीघ्र विकास के लिए उनमे जहरीले इंजेक्शन लगा दिया जाते है जिससे उनमे भी वो केमिकल और जहर भर जाता है और हम ऐसे फलो और सब्जियों का सेवन करते है तो वो हमारे शरीर में जाकर हमें भी विषाक्त कर देते है. इस तरह शरीर में रोग उत्पन्न होते है. इस तरह देखा जाए तो आज एक मनुष्य ही दुसरे मनुष्य का शत्रु बन चुका है. वो इस तरह मौत बेच रहे है पर उन्हें पैसे के सिवा कुछ नहीं दिख रहा है. दशको से लगभग पूरे देश में फल सब्जी विक्रेताओं द्वारा बेचे जाने वाले अनेक फल व सब्जियाँ है जो अप्राकृतिक तरीके से समय से पूर्व रासायनिक विधियों से तैयार कर या पका कर दुकानों, रेहडियो अथवा फुटपाथ पर बेचीं जा रही है. ऐसा नहीं है की ऐसे विधि से पकाए गए फल साधारण लोगो ही खाते है सभी वर्ग के लोगो को कमोवेश यही फल और सब्जियाँ खाने को मिलती है. यदि हम अति विशिष्ट लोगो की बात छोड़ दे जो अपने स्वयं के बाग़ बगीचे में फल व सब्जियाँ उगाते है तो देश का प्रत्येक हर बड़ा व संभ्रांत व्यक्ति भी वही जहरीली सब्जी तथा फल खाने को बाध्य है जो बाज़ार में उपलब्ध है. ये भी सुनने में आया है की कई खाने की वस्तुओं में प्लास्टिक के महीन तत्व का प्रयोग किया जाता है. पूरे देश में देखा जाए तो एक अत्यंत ही गंभीर समस्या है जो खाने के माध्यम से हमारे शरीर को धीरे धीरे नष्ट करता है. बीमारियों का बड़ा बोझ डाला गया है जिसमे लोग उलझते जा रहे है. जितना जल्द हो सके सभी तरह के खाने पीने में हो रहे अधिक कीटनाशक का प्रयोग और रासायनिक के जगह जेविक विधि का प्रयोग किया जा सकता है. दिल्ली हाईकोर्ट के कार्यकारी मुख्य न्यायधीश सिद्धार्थ मृदुल की खंडपीठ ने दिल्ली सरकार को निर्देश जारी किए किए है की वह एक PRMC का गठन करे. इस सेल का नेतृत्व खाध एवं आपूर्ति विभाग के आयुक्त करेंगे. यह सेल फलो व सब्जियों में कीटनाशक की मात्रा जांचने व इनका प्रयोग करनेवालो पर कारवाई करेंगे. एक जनहित के जवाब में ये कहा गया है.

LEAVE A REPLY