11 पूर्व सांसदो पर चलेगा मुकदमा 

11 पूर्व सांसदो पर चलेगा मुकदमा 

187
0
SHARE

दिल्ली की आदालत ने 2005 के सावाल के बदले नकद घोटाला मामले में 11 पूर्व सांसदों पर आज भ्रष्ट्राचार और आपराधिक षड़यंत्र के आरोप तय किए विशेष न्यायाधीश किरण बंसल ने 11 पूर्व सांसदों और एक अन्य व्यक्ति पर मुकदमा चलाने के आदेश दिए यह मुकदमा 12 जनवरी से सुरु होगा. इस मामले में तत्कालीन सांसद वाई जी महाजन, छत्रपाल सिंह लोढ़ा, अन्ना साहेब, MK पाटिल,चंद प्रताप सिंह, प्रदीप गांधी, सुरेश चंदेल भाजपा, मनोज कुमार राजद,नरेन्द्र कुमार कुशवाहा, लाल चंद कोल, राजा रामपाल बसपा, रामसेवक सिंह कांग्रेस का आरोपी बनाया गया है. दो पत्रकारों ने तत्कालीन सांसदों के खिलाफ एक स्ट्रिंग आपरेशन किया गया था. 12 दिसंबर 2005 को एक निजी समाचार चैनल पर प्रसारित हुआ था. यह स्टिंग जिसमे सांसद ने सवाल पूछने के बदले में नगद लेने की बात सामने आई, इसे सवाल के बदले नकद घोटाला के नाम से जाना जाता है. दिसंबर 2005 में लोकसभा ने दस सदस्यों को निष्काषित कर दिया था जबकि लोढ़ा को राज्यसभा से हटाया गया था. अभियोजन पक्ष ने अपनी दलीलों के समर्थन में सीडी और डीवीडी पेश की जिसमे आरोपियों और अन्य के बीच हुई बातचीत कैद है. विशेष लोक अधिवक्ता अतुल श्रीवास्तव ने बताया कि आदालत ने रामपाल के तत्कालीन निजी सहायक रविन्द्र कुमार के खिलाफ भी आरोप तय किए है. आदालत ने आरोपियों के खिलाफ भारतीय दंड संहिता ipc के तहत अपराधिक षड़यंत्र रचने और भ्रष्ट्राचार निरोधक अधिनियम के प्रावधानो के तहत आरोप तय किए है. दिल्ली पुलिस ने इस मामले में वर्ष 2009 के आरोप पत्र दाखिल किया था जिनपर भ्रष्ट्राचार निरोधी कानून के तहत कथित रूप से अपराध को बढ़वा देने के आरोप थे. निचली आदालत ने उन्हें समन भेजा था लेकिन दिल्ली उच्च न्यायालय ने उनके खिलाफ जांच को रद्द कर दिया था. देश प्रथम है इतिहास उढ़ाकर देखा जाए तो कितने लोगो के खिलाफ गलत हुए है इसलिए देश को अच्छाई की ओर ले जाने में कुछ गलतियों को नज़र अंदाज किया जाना चाहिए.

LEAVE A REPLY