नागा आकांक्षाए पूरी की जाएंगी

नागा आकांक्षाए पूरी की जाएंगी

134
0
SHARE

किसामा (नागालैंड) : केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने आज कहा कि केंद्र सरकार नागा लोगो के उज्जवल भविष्य के लिए उनकी आकांक्षाओं को पूरा करने के वास्ते अपना सर्वश्रेष्ठ देने को लेकर प्रतिबद्ध है. गृहमंत्री ने उग्रवाद की समस्या के स्थायी संसाधान के लिए केंद्र सरकार और NSCN आईम नेतृत्व के बीच चल रही शांति प्रक्रिया के बारे में जानकारी नहीं दी. सिंह ने यहाँ हार्नबिल उत्सव में कहा, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में केंद्र सरकार नागा लोगो के उज्जवल भविष्य के लिए उनकी आकांक्षाओं को पूरा करने में अपना सर्वश्रेष्ठ देने की ओर प्रतिबद्ध है. राज्य की राजधानी कोहिमा से 12 किलोमीटर दूर नागा विरासत गाँव में गृहमंत्री की यह टिप्पनी राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की यह टिप्पणी के बाद आई है जिसमे उन्होंने कहा कि नागालैंड इतिहास बनाने की दहलीज पर है क्युकि नागा राजनीतिक मुद्दे के अंतिम समझौते पर जल्द ही पहुंचा जाएगा और शांति हासिल की जाएगी. नागालैंड के राज्यपाल PB आचार्य ने 19 सितम्बर को कहा कि विवादास्पद नागा मुद्दे को अगले एक या दो महीने के भीतर हल किया जाएगा. नागालैंड के मुख्यमंत्री टी आर जेलियांग ने लोगो को संबोधित करते हुए कहा कि अब समय आ गया है कि सात दशक से चल रहे नागा राजनीतिक मुद्दे का स्थायी समाधान निकला जाए. जेलियांग ने कहा कि सभी नागा उग्रवादी समूहों का साथ आना एक स्थायी समाधान निकालने के लिए अच्छा मौका है. वार्षिक पर्यटन उत्सव में नागा लोगो को संबोधित करते हुए कहा कि अब समय आ गया है कि केंद्र सरकार भारत म्यांमार सीमा पर मुक्त आवागमन फिर से सुरु करने की प्रक्रिया में है ताकि सीमावर्ती इलाको में रहने वाले लोगो को कोई परेशानी ना हो. उन्होंने कहा सीमा पर व्यापार को बढ़ावा देने के लिए भी कदम उठाए जा रहे है. इससे यह भी सुनिश्चित होगा कि सीमा पर गैरकानूनी तस्करी और अन्य अवैध गतिविधियों पर लगाम लगाई जाए. नागालैंड की सीमा म्यामांर के साथ लगती है. मुक्त आवागमन के तहत भारत और म्यांमार की सीमा पर रह रहे लोगो की वगैर यात्रा दस्तावेज़ के एक दूसरे के स्थानों पर जाने की अनुमति होगी. सिंह ने कहा कि नागालैंड के पास पूर्वोत्तर राज्य का शांति, स्थिरता, समृधि और वृद्धि के पथ पर नेतृत्व करने का मौका है. गृहमंत्री ने कहा कि नागालैंड को भविष्य की ओर देखना चाहिए.

LEAVE A REPLY