पप्पू नहीं अब युवराज 

पप्पू नहीं अब युवराज 

205
0
SHARE

भारतीय जनता पार्टी ने 49 सेकेण्ड का वीडियो जारी किया है वीडियो किराने की दूकान का है जिसमे दिखाया गया है की एक व्यक्ति की आवाज आती है जो कहता है, ‘सर, सर’ इसके बाद दूकान का सहायक कहता है ‘सेठ युवराज आया है.’ वीडियो में नज़र नहीं आ रहे युवराज को दुकानदार अपने जवाब में कहता है कि वह उन्हें दूकान से कोई भी सामान देगा लेकिन वोट नहीं देगा. क्युकि कांग्रेस के पिछले शासन में हुए दंगो के दौरान उनकी दूकान को जलाया गया था. वीडियो में दुकानदार की पत्नी कहती है कि वे वोट सिर्फ प्रधानमंत्री को देंगे. चुनाव आयोग ने राज्यों में होनेवाले विधानसभा चुनाव के इलेक्ट्रोनिक विज्ञापन में पप्पू शब्द के इस्तेमाल से भाजपा को रोक दिया था. युवराज शब्द का इस्तेमाल करने की चुनाव आयोग से मंजूरी मिलने के बाद गुजरात भाजपा के फेसबुक पेज पर बुधवार को नया विज्ञापन जारी किया गया. जब भाजपा से यह पूछा गया कि क्या यह वही विज्ञापन है जिसमे आयोग ने भाजपा को पप्पू शब्द का इस्तेमाल करने से रोका था, तो भाजपा के प्रवक्ता हर्षद पटेल ने कहा की ‘मुझे यह जानकारी नहीं है कि क्या जारी किया गया विज्ञापन वही है या नहीं. भाजपा और विपक्षी कांग्रेस सोशल मीडिया पर मजाकिया विज्ञापन के जरिये एक दूसरे को निशाना बना रहे है गुजरात में नौ और 14 दिसंबर को मतदान होना है. इससे पहले चुनाव आयोग ने भाजपा को इलेक्ट्रॉनिक विज्ञापन में पप्पू शब्द का इस्तेमाल होने से रोक दिया था और इसे अपमानजनक बताया. भाजपा ने कहा था कि विज्ञापन की पटकथा में शामिल शब्द का किसी व्यक्ति विशेष से कोई संबंध नहीं है. चुनाव आयोग ने किस लहजे में पप्पू से युवराज शब्द की मंजूरी दिया है जनता ही जानेगी.

LEAVE A REPLY