मोबाईल चोरी पर सख्त सर्विलांस पर IMEI.

मोबाईल चोरी पर सख्त सर्विलांस पर IMEI.

163
0
SHARE

नई दिल्ली : मोबाईल चोरी की घटना देश में सभी जगह कमोवेश होती है दक्षिण पश्चिमी जिला पुलिस की टीम ने पिछले 15 दिनों में सौ से अधिक चोरी व झपटमारी हुए मोबाइलों को बरामद किया है, तो वही तक़रीबन इतने ही चोर झपटमार को कानून के शिकंजे में कसा गया है. पुलिस अधिकारियों ने बताया कि पिछले 15 दिनों में टीम ने 102 मोबाइल फोनों को दिल्ली से बाहर से बरामद किया गया है. ये मोबाइल हरियाणा, उत्तर प्रदेश और बिहार में प्रयोग किए जा रहे थे. उन्होंने बताया कि सभी मोबाइल फोन निचले तबके के लोगो को बेचे गए थे और उनसे पूछताछ के आधार पर पुलिस ने कई चोरो को पकड़ा है. पुलिस ने इस बाबत बीस से अधिक लोगो को गिरफ्तार किया है, वही 70 से अधिक लोगो को नोटिस देकर तलब किया गया है. पुलिस शूत्रो के अनुसार कई आरोपी नाबालिग मिले है. तो वही मोबाइल प्रयोग करनेवाले भी कुछ नाबालिग सामने आए है. उन्होंने बताया कि आमतौर पर मुख्य आरोपी नाबालिगो को बहला-फुसलाकर झपटमारी करवाते हुए पाए गए, तो वही जिन नाबालिगो ने मोबाइल खरीदा था, उसका कारण सस्ते में स्मार्टफोन की चाहत थी. पुलिस ने बताया कि बरामद हुए मोबाइल फोन से लेकर लगभग सभी कंपनियों के स्मार्टफोन शामिल है. निचले तबके वाले लोगो को आरोपी बहुत सस्ते में चोरी हुए मोबाइल फोन दे देते थे, जिसके बाद आरोपी मिले हुए पैसे से नशे की जरुरत को पूरा करते थे. पुलिस अधिकारियों के अनुसार इस पूरे तहकिकात में चार टीमें शामिल थी. पहली टीम ने सभी पुलिस थानों से मोबाइल से जुड़ी FIR निकाली, तो वही दूसरी टीम ने सर्विस प्रोवाइडर से IMI नंबर निकलवाया. इसके अलावा तीसरी टीम सभी मोबाइल को सर्विलांस पर लगाकर उनकी निगरानी करती रही, जिस बीच चौथी टीम ने उनको अलग अलग स्थानों से बरामद करवाया अभी यह कारवाई जारी है और पुलिस सूत्रों के अनुसार दो से अधिक मोबाइलो को सर्विलांस पर है. वही पूरे मामले में हजारो मोबाइल सर्विलांस पर है पुलिस आयुक्त शिबेष सिंह की देखरेख में एसीपी आप्रेशन आदित्य गौताम और एंटी रॉबरी सेल के एसआई अरविंद की टीम ने यह कारवाई की है. टीम में शामिल एक अधिकारी ने बताया कि पुलिस ने सभी थानों से इस साल FIR खंगाली है, जिसमे किसी भी तरीके से मोबाइल की चोरी हुई हो. उन्होंने बताया कि घर में चोरी झपटमारी, लुट ऐसे तमाम अपराधो में अगर मोबाइल की चोरी हुई है तो पुलिस ने उन मोबाइल को सर्विलांस पर लगाया था.
अच्छे और नये तकनिक पर आधारित फोन की चाहत बहुत लोगो को होता है लेकिन उनके बजट से बाहर होता है. जरुरी नहीं की महंगे फोन से ही काम चलेगा मीडियम फोन भी सहायक है कामो के लिए और बहुत अच्छे भी. चोरी की घटना में दो बाते सामने आयी है पहला की चोरी करने वाला आरोपी पैसे से नशा करता है उसकी आदत लगी है. दूसरा खरीदने वाले लोगो को कम पैसे में मिल जाता है. दोनों समुदायों में सुधार करने की जरुरत है सबसे ज्यादा चोरी करके नशा करनेवाले में बदलाव जरुरी देखा जा रहा है.

LEAVE A REPLY