पार्टियों की कमाई करोड़ो में

पार्टियों की कमाई करोड़ो में

187
0
SHARE


नई दिल्ली : वर्ष २०१५ -१६ के दौरान 32 क्षेत्रीय दलों की कुल आय २२१.४८ करोड़ रुपये थी जिसमे से 110 करोड़ रुपये खर्च नहीं हए. इनमे से सर्वाधिक आमदनी द्रमुक की थी. यह बात एक रिपोर्ट में सामने आयी है. एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स (एडीआर) ने अपनी रिपोर्ट में कहा, २०१५-१६ के लिए 32 क्षेत्रीय दलों की कूल आय २२१.४८ करोड़ रूपए थी जिसमे से पार्टी ने ११४.४८ करोड़ खर्च किये और 110 करोड़ रूपए की राशी बिना खर्च की हुई रह गई. कुल ४७ क्षेत्रीय दलों में से १५ ने २०१५ -१६ के लिए अपनी ऑडिट रिपोर्ट चुनाव आयोग को आज तक जमा नहीं की है जिसमे सपा और राजद भी है. खाते जमा करने की अंतिम तारीख ३१ अक्तूबर २०१६ थी. २०१५-१६ के दौरान द्रमुक की आय ७७.६३ करोड़ सर्वाधिक थी. इसके बाद अन्ना द्रमुक की आय थी और उसके पास ५४.९३ करोड़ रुपये की राशि जमा हुई. तेलगु देशम पार्टी के पास १५.९७ करोड़ रुपये जमा हुए. भाजपा के पास कुल ७०५ कड़ोर लगभग ३००० कॉर्पोरेट समूह से मिले है. कांग्रेस के पास 200 करोड़ से ज्यदा कॉर्पोरेट समूह से मिले है.
मध्य प्रदेश में एक क्षेत्रीय दल है लोकतांत्रिक समाजवादी पार्टी जिसको रघुवर ठाकुर चलाते है ये ऐसी पार्टी है जो लोगो से मात्र १०१ रुपये का चंदा लेती है. इनका मानना है की हम किसी भी लोगो से ज्यदा पैसा लेते है तो वो राजनीति को प्रभावित करती है, और मुख्य कारण ये है की बड़ी पार्टी जितने के बाद बड़े लोगो के लिये ज्यादा काम करती है.
ध्यान से देखा जाये तो अधिकतम पार्टी जनता से किसी न किसी प्रकार भाड़ी भरकम चंदा ले लेती है और उस पैसे से पार्टी के अधिकांश अधिकारी का अपना खर्च चलता है. यहाँ तो कुछ पार्टी का विवरण दिया गया है कुल ४८ राजनीतिक पार्टी है. १७०० से अधिक पार्टी है जो रजिस्टर्ड नहीं है वो भी अपना राजनीति दूकान किसी न किसी तरह जनता के पैसे से चला रहे है. अब जनता को जागने का समय आ गया है की वे राजनीति पार्टी को अच्छी तरह से समझे कैसे काम कर रही है, और ये शिलशिला लगातार कई दशको से लगातार चलते रहते है. लोगो को तरह तरह से प्रलोभन दिए जाते है और बहुत सारी जनता इनके झांसे में आकर हमेशा उम्मीद लगाए रखते है की अब सब ठीक हो जाएगा इस उम्मीद में दशको गुज़र जाते है. फिर उनके बच्चे भी पार्टी के पीछे लगे रहते है और मिलता ज्यदा कुछ नहीं है. जैसा अभी अधिकांश जनता की परेसानी है और वो दिल दिमाग से समझ रहे है. हां इन सभी में कुछ अच्छे नेता जरुर है जो बधाई के योग्य है.

LEAVE A REPLY