गाँधी: दुनिया को बदलने वाले शख्स

गाँधी: दुनिया को बदलने वाले शख्स

251
0
SHARE

नई दिल्ली : अमेरिकी विदेश मंत्री रेक्स टिलरसन ने आज यहां महात्मा गांधी के स्मारक का दौरा किया और उन्हें उन चुनिंदा वैशिवक नेताओं में से एक बताया जिन्होंने दुनिया बदल दी. टिलरसन अपने संछिप्त दौरे में बिड़ला हाउस के उस कमरे में गये जहां गांधी ने जिंदगी के आखिरी १४४ दिन बिताये थे. भूरे रंग का सूट पहने हए विदेश मंत्री ने बाद में विशाल परिसर के बगीचे में एक जगह पर स्थापित शहीद स्तंभ पर गांधी को शर्धांजलि दी. शहीद स्तंभ वाली जगह पर ही ३० जनवरी १९४८ को नाथूराम गोडसे ने गांधी जी को गोली मारकर हत्या कर दी थी. उनकी हत्या के बाद इस घर को स्मारक में बदल दिया गया. सफेद रंग के इस बड़े बंगले में एक संग्रालय, आर्ट गैलरी, और बुक स्टोर भी है.  तीस जनवरी लेन नई दिल्ली में बिरला हाउस गांधी स्मृति है. पेड़ पौधे की हरियाली अपनी और खीचती है. वास्तव में प्राकृतिक चीजे शांति और शुकून देता है और उस जगह की अहमियत और बढ़ जाती है जहां कोई महापुरुस का निवास होता है. सभी प्रकार की नकारात्मक शक्तियां किनारा हो जाती है. दुनिया के कोई भी मानव गांधी जी के पूरा जीवन और काम को पढेगे तो निसंदेह प्रभावित होते है. कुछ लोगो को उन महापुरुस से ज्यादा आपेक्षा रहता है. लेकिन ये सच है की हमारी आपकी तरह ही कोई महापुरुष होते है वे केवल अपने मन मस्तिष्क को केन्द्रित करके अंत: चेतना को जागृत करके खानपान, रहन सहन, आचार विचार में परिवर्तन करके सकारात्मक विचार अपनाकर ईश्वर के करीब हो जाते है कोई होनेवाली घटना को पहले अंदाज़ा लगा लेते है. किसी भी मानव को अपनी और खीचने की शक्ति अपना लेते है. चूकी इस संसार से सभी को एक न एक दिन जाना है तो वो भी चले जाते है लेकिन मारने वाले क्रूर और गलत होते है. एक महापुरुस संसार को हँसता खेलता और खुशनुमा बना देता है जब उनके बताये मार्ग पर सभी चले तब लेकिन चलते कितने है ?? कुछ लोग अहंकारी, नास्तिक और गलत चीजो का सेवन करनेवाले होते है, इनके गलत इच्छाओ की पूर्ति नहीं होती है तो कुछ भी अनहोनी कर देते है.


समझने के लिये विधुत उर्जा में एक सकारात्मक  (+) और एक ऋणात्मक (-) होते है तब वल्ब जलते है या विधुत उर्जा का किसी यंत्र में उपयोग करके गाना सुनते है. सकरात्मक उर्जा होना चाहिये ऋणात्मक कही से भी ले लेते है, जैसे बहुत जगह और घर पर देखे होंगे जमीन के अंदर एक तार को डालकर ऋणात्मक उर्जा लेकर बल्व को जलाते है. उसी प्रकार मानव में सकरात्मक उर्जा, विचार, सोच होने चाहिये नकारात्मक लोग हर जगह मिल जायेंगे. इसलिये सभी लोगो को कोशिश करना चाहिये की अपने जीवन में बदलाव लाये और अपने खुश हो और सभी को खुश करने का प्रयास किया जाये.

LEAVE A REPLY